राजनीतिक नियुक्तियों का पिटारा खुला तो फिर सुनाई देने लगे विरोध के स्वर

Rajasthan Pradesh Congress
Rajasthan Pradesh Congress

The Fact India: राजस्थान में लम्बे इंतज़ार के बाद एक बार फिर राजनीतिक नियुक्तियों का पिटारा खुल गया है. लेकिन इसके साथ ही एक बार फिर घमासान तेज हो गया है. पीसीसी चीफ गोविन्द सिंह डोटासरा की अध्यक्षता में मंगलवार को पार्टी पदाधिकारियों की वर्चुअल बैठक (PCC Meeting) हुई. जिसमें विरोध के स्वर एक बार फिर सुनाई दिए.

उद्योग मंत्री ने देश के सभी तहसीलदार को बताया घूसखोर, खड़ा हुआ बखेड़ा

पायलट कैम्प के नेता और पीसीसी के उपाध्यक्ष राजेन्द्र चौधरी ने प्रदेश प्रभारी के निर्देशों की अवहेलना के आरोप लगाते (PCC Meeting) हुए कड़ा विरोध जताया गया. चौधरी का कहना है कि प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने पार्षदों के मनोनयन को लेकर पार्टी की बैठक में स्पष्ट निर्देश दिए थे, लेकिन नियुक्तियों में उनका ध्यान नहीं रखा गया.

नशे में धुत कांस्टेबल ने टैक्सी ड्राइवर को सरेआम पीटा, वीडियो हुआ वायरल

कुछ वक्त पहले पीसीसी में हुई पार्टी की बैठक में प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने निर्देश दिए थे कि जो कार्यकर्ता चुनाव लड़ चुके हैं उन्हें नियुक्तियां नहीं दी जाए. इसकी बजाय उन लोगों को उन कार्यकर्ताओं को मनोनीत किया जाए जिन्हें टिकट नहीं मिल पाया था. इसके साथ ही यह भी कहा गया था कि यदि चुनाव में वाल्मिकी समाज के प्रतिनिधि जीतकर नहीं आए हैं तो पार्षदों के मनोनयन में वाल्मिकी समाज को प्रतिनिधित्व दिया जाए.