World Earth Day 2021:जानिए क्या है विश्व पृथ्वी दिवस का इतिहास, कब हुई शुरुआत

World Earth Day 2021

The Fact India: पृथ्वी पर रहने वाले तमाम जीव-जंतुओं और पेड़-पौधों को बचाने तथा दुनिया भर में पर्यावरण के प्रति जागरुकता बढ़ाने के लक्ष्य के साथ 22 अप्रैल के दिन ‘पृथ्वी दिवस’ यानि‘ अर्थ डे’ (World Earth Day 2021) मनाने की शुरूआत की गई थी। 1970 में शुरू की गई इस परंपरा को 192 देशों ने खुली बांहों से अपनाया और आज लगभग पूरी दुनिया में प्रति वर्ष पृथ्वी दिवस के मौके पर धरा की धानी चुनर को बनाए रखने और हर तरह के जीव-जंतुओं को पृथ्वी पर उनके हिस्से का स्थान और अधिकार देने का संकल्प लिया जाता है।

22 अप्रैल वर्ष का 112वां दिन है। भारत के स्वतंत्रता संग्राम में भी इस दिन का खास मुकाम है। इसी दिन देश के महान सपूत नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने देश सेवा के लिए भारतीय सिविल सेवा की नौकरी से इस्तीफा दिया था।

हर साल 22 अप्रैल को पर्यावरण संरक्षण के लिए समर्थन प्रदर्शित करने के लिए पृथ्वी दिवस (World Earth Day 2021) मनाया जाता है। अर्थ डे पहली बार 22 अप्रैल 1970 को मनाया गया। 193 देशों में इसको मनाया जाता है। इसकी स्थापना अमेरिकी सीनेटर जेराल्ड नेल्सन ने 1970 में एक पर्यावरण शिक्षा के रूप की थी

‘अर्थ डे’ मनाने का उद्देश्य
पृथ्वी पर जैसे-जैसे आबादी बढ़ते जा रही है, यहां प्रदूषण, प्राकृतिक संसाधनों का दोहन, बढ़ते असंतुलन के कारण वो दिन अब दूर नहीं है जब पृथ्वी रहने का स्थान नहीं बचेगी इसलिए जरूरी है कि सही समय पर सभी लोग जाग जाएं और अपनी जिम्मेदारियों को समझें और पृथ्वी के प्रति अपने कर्तव्य निभाएं इसी उद्देश्य के साथ पिछले 50 सालों से संपूर्ण विश्व में विश्व पृथ्वी दिवस मनाया जा रहा है

ऐसे मनाया जाता है विश्व पृथ्वी दिवस
विश्व पृथ्वी दिवस (World Earth Day 2021) के दिन सबसे पहले तो लोग पृथ्वी का धन्यवाद करते हैं कि उन्हें ऐसा एक गृह मिला जहां पर जीवन मौजूद है। जीने के लिए आवश्यक हर संसाधन मौजूद है। इस अवसर पर विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन प्रतियोगिताएं होती हैं। विद्यालय और महाविद्यालयों में भाषण, निबंध एवं स्लोगन आदि प्रतियोगिताएं होती हैं। वरिष्ठ जन सेमिनारों को संबोधित करते हैं। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर योजनाएं तैयारी होती हैं।