अजमेर दरगाह दीवान की मुसलमानों से अपील, सोशल मीडिया पर आंख मूंदकर नहीं करें विश्वास, हिंसा से बचें

The Fact India: देश में लगातार बढ़ती साम्प्रदायिक घटनाओं के बीच अजमेर की ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह के प्रमुख सज्जादानशीन सैयद जेनुअल आबेदीन अली खान (Diwan’s Appeal) ने मुस्लिमों के नाम शांति संदेश दिया है. उन्होंने शांति और अच्छे संबंध बनाए रखने की अपील की है. साथ ही उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर आंख मूंद कर कतई विश्वास नहीं करें.

दरअसल ख्वाजा गरीब नवाज की दरगाह में ख्वाजा साहब के गुरू हजरत ख्वाजा उस्मान हारूनी का उर्स मनाया गया. इस मौके पर दरगाह प्रमुख दीवान सैयद जेनुअल अबेदीन अली खान (Diwan’s Appeal) ने संदेश जारी किया. उन्होंने कहा कि स्वयं मोहम्मद साहब ने कहा है कि प्रार्थना, दान और उपवास से बेहतर लोगों के बीच शांति और अच्छे संबंध बनाए रखना है. ऐसे में इस्लाम के मानने वाले सभी लोगों को चाहिए कि हिंसा से बचें. इस्लाम में किसी भी कारण से किसी व्यक्ति की हत्या करना या हमला करने को गलत करार दिया गया है.

अपने बच्चे की आत्मा लेने हॉस्पिटल पंहुचा परिवार, घंटों तक हॉस्पिटल के बाहर चला अन्धविश्वास का खेल

दरगाह दीवान ने कहा कि कई आतंकवादी संगठन भी अपने एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए इस्लाम के नाम का इस्तेमाल करते हैं. उन्होंने अपील की है कि वर्तमान में सोशल मीडिया भी हिंसा को भड़काने में अहम भूमिका निभा रहा है. ऐसे में सोशल मीडिया पर आंख मूंदकर विश्वास नहीं करें. ना ही सनसनीखेज सामग्री को साझा करें. उन्होंने कहा कि कट्टरपंथी लोग देश और अमन के दुश्मन हैं. वह कोई भी झूठी जानकारी शेयर कर सकते हैं.

सैयद जेनुअल अबेदीन ने कहा कि इस्लाम शांति और प्रेम को बढ़ावा देता है. यह हिंसा को ना तो बढ़ावा देता है और ना ही इसकी वकालत करता है. उन्होंने यह भी कहा कि इस्लाम के संदेश को भी तोड़ मरोड़कर पेश किया गया है. उन्होंने कहा कि धर्म और इस्लाम के नाम पर हो रही हिंसा के सख्त खिलाफ है और वह कड़ा विरोध करते हैं साथ ही सरकार से यह मांग भी करते हैं कि हिंसा करने और भड़काने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो जिससे कि ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं हो सके. दरगाह दीवान ने देश के लोगों से अपील की है कि धैर्य और शांति से मिल जुलकर रहें. देश और शांति के दुश्मनों के मंसूबों को कामयाब नहीं होने दें.