बेरोजगारी के मुद्दे पर बेनीवाल और वसुंधरा ने गहलोत सरकार को घेरा

The Fact India: देश-प्रदेश में इन दिनों बेरोजगारी का मुद्दा छाया हुआ है. लिहाजा अब प्रदेश के नेताओं ने भी बेरोजगारी का मुद्दा लपक लिया है. बेरोजगारी (Unemployment) के मुद्दे पर नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने जहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गढ़ जोधपुर में मोर्चा खोलने की तैयारी कर ली है. तो वहीं पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बेरोजगारों को धोखा देने का आरोप लगाया है.

दरअसल राजस्थान में इन दिनों बेरोजगारी (Unemployment) का मुद्दा तूल पकड़ रहा है. बेनीवाल ने कहा कि वे जल्द ही किसानों और बेरोजगारों सहित अन्य मुद्दों को लेकर जल्द ही पूरे प्रदेश में रैलियां करेंगे, जिसकी शुरुआत मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गढ़ जोधपुर से करेंगे.

राजस्थान में अब ऑनलाइन सट्टा खेलना आपको पहुंचा सकता है सलाखों के पीछे

दूसरी ओर एक बार फिर सक्रीय दिख रही वसुंधरा राजे ने भी बेरोजगारों की आवाज बुलंद की है.. वसुंधरा राजे ने कहा कि वादा था हर वर्ष लाखों नौकरियां देने का लेकिन दिया सिर्फ धोखा. AEN की मुख्य परीक्षा दिसंबर, 2019 में आयोजित कराई गई, लेकिन 15 माह बीत जाने के बाद भी अब तक परिणाम जारी नहीं किया गया है. प्रदेश में बेरोजगार युवाओं के सपनों पर कांग्रेस सरकार का ये कैसा कुठाराघात है?

वसुंधरा राजे ने कहा कि राजस्थान में ज्यादातर भर्ती परीक्षाएं राज्य सरकार की लापरवाही के चलते मझधार में अटकी हुई है. जिससे छात्रों में निराशा का माहौल है.. तथा कई युवा मानसिक तनाव का सामना कर रहे हैं. अतः सरकार को यथाशीघ्र AEN परीक्षा का परिणाम जारी कर छात्रों को राहत प्रदान करनी चाहिए.