अलवर मामले में पुलिस के यू-टर्न के बाद भाजपा ने की CBI जांच की मांग

The Fact India: राजस्थान के अलवर (AlwarCase) में नाबालिग मूक बधिर से हुई हैवानियत के मामले में पुलिस की जांच भी सवालों के घेरे में है. भाजपा ने इसे अब राष्ट्रीय मुद्दा बना दिया है. भाजपा अब इस पूरे मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग कर रही है. भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां ने शनिवार को प्रेसवार्ता कर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर जमकर निशाना साधा और कहा कि पुलिस की ओर से दुष्कर्म जैसी किसी भी घटना से इनकार कर दुर्घटना बताया जाना राज्य सरकार की नीयत और नाकामी पर सवाल खड़े करता है.

पाक सीमा के पास जैसलमेर में फहराया दुनिया का ‘सबसे बड़ा तिरंगा’, ऐसे है खास

पूनियां ने इस पूरे मामले (AlwarCase) की निष्पक्ष जांच के लिए केस सीबीआई को सौंपने की मांग की है. उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकार मामले की जांच से क्यों बच रही है, अपराधियों को क्यों बचा रही है? क्या पंजाब और यूपी के चुनाव के कारण कांग्रेस सरकार बदनामी से डरकर मामले को दबाने की कोशिश कर रही है? क्या प्रियंका गांधी के जन्मदिन में खलल के बाद कांग्रेस सरकार ने उनके इशारे पर इस मामले को दबाने की कोशिश की है?

पूनिया ने कहा कि पहले दुष्कर्म की घटना बताना और फिर पुलिस प्रशासन का यू-टर्न सवाल खड़े करता है भाजपा इस पूरे घटनाक्रम की तत्काल निरपेक्ष जांच एवं अपराधियों की फांसी की सजा की मांग करती है. इस घटना पर खेद व्यक्त करते हुए भाजपा 17 एवं 18 जनवरी को प्रदेश के सभी मंडलों पर व्यापक विरोध प्रदर्शन का ऐलान करती है.