CM योगी अयोध्या से ठोकेंगे ताल! केशव मौर्य और दिनेश शर्मा की भी सीटें तय

The Fact India: उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अब भाजपा में टिकट वितरण को लेकर सियासी हलचलें तेज होती नजर आ रही है. भाजपा की ओर से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(CM Yogi Adityanath) को अयोध्या से चुनावी रण में उतारने की तैयारी है. वहीं राज्य के दोनों उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) और दिनेश शर्मा की सीटों पर भी सहमति बनती नजर आ रही है. केशव प्रसाद मौर्य को उनकी पांरपरिक सीट कौशांबी जिले की सिराथू विधानसभा सीट से उतारा जा सकता है. आपको बता दें वह भाजपा के बड़े ओबीसी नेताओं में से एक माने जाते हैं. आपको बता दें स्वामी प्रसाद मौर्य, धर्मपाल सैनी समेत कई अन्य ओबीसी नेताओं के पार्टी से अलविदा कहने के बाद उनकी अहमियत और बढ़ गई है. उन्हें चुनावी समर में उतारकर भाजपा ओबीसी वोटबैंक को साधने की कोशिश में है. सिराथू में 5वें चरण में चुनाव होना है.

यूपी में दलबदल का दौरा जारी, अब BSP ने दिया कांग्रेस और रालोद को झटका

मौर्य और दिनेश शर्मा मिल सकता है अहम जिम्मा

केशव प्रसाद मौर्य के अलावा दिनेश शर्मा को लखनऊ की तीन में से किसी एक सीट से उतारने की तैयारी है. जानकारी के मुताबिक भाजपा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(CM Yogi Adityanath) को अयोध्या से उतारकर हिंदुत्व के मुद्दे को नई धार देना चाहती है. इसके अलावा दिनेश शर्मा को ब्राह्मण चेहरे और केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) को ओबीसी फेस के तौर पर प्रोजेक्ट करने की तैयारी में है. यही नहीं इन दोनों नेताओं को पूरी आक्रामकता के साथ चुनावी प्रचार की कमान सौंपी जा सकती है. दरअसल प्रदेश में ओबीसी बिरादरियों और ब्राह्मणों की नाराजगी का नैरेटिव विपक्ष की ओर से तैयार किया गया है. ऐसे में भाजपा इन नेताओं को आगे करके इसकी काट करने की कोशिश कर सकती है.  

यूपी: भाजपा में भगदड़ जारी, स्वामी भक्त एक और विधायक ने दिया पार्टी से इस्तीफा

बसपा के गढ़ में केशव प्रसाद मौर्य ने लगाई थी सेंध

यादव बिरादरी इस चुनाव में सपा के साथ मजबूती से खड़ी दिखाई नजर आ रही है. इसलिए भाजपा की रणनीति है कि अन्य ओबीसी वर्गों को छिटकने से रोका जाए. आपको बता दें केशव प्रसाद मौर्य ने पहली बार 2012 में विधानसभा चुनाव सिराथू सीट से ही लड़ा था. यहां उन्होंने बड़ी जीत हासिल की थी. इससे पहले यह सीट बसपा का गढ़ हुआ करती थी.