मजबूत हड्डियों से लेकर कैंसर तक है खजूर के फायदे

The Fact India: किसी भी प्रकार के ड्राई फ्रूट्स को अपनी डाइट में शामिल करने से काफी फायदा होता है. ये कई गंभीर बीमारियों से बचने में हमारी मदद करते हैं. ड्राई फ्रूट्स में पौष्टिक तत्व होते है जो शरीर को एक्टिव रखते है और साथ ही एनर्जी भी देते हैं. ऐसा ही एक ड्राई फ्रूट है खजूर(Dates), जो हमारे शरीर में होने वाली कई बीमारियों से हमें बचाता है और साथ ही यह टेस्ट में भी काफी अच्छा होता है. खजूर पाम ट्री पर उगते है जिसे वेस्ट एशियन हेरिटेज में ड्राई फ्रूट्स की श्रेणी में शामिल किया गया है.

हीमोग्लोबिन

खजूर ब्लड में हीमोग्लोबिन लेवल को इम्प्रूव करने के साथ ही शरीर को एनर्जी भी प्रोवाइड करता है. डॉक्टर्स भी हीमोग्लोबिन कम होने पर खजूर को डाइट में शामिल करने की सलाह देते है.

किडनी

किडनी को सुरक्षित रखने में मददगार होता है खजूर. इसमें कई ऐसे पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं जो किडनी को मुश्किल परिस्थितियों में भी स्वस्थ रखता है. खजूर रोज़ाना सेवन करने से प्लाज्मा और क्रिएटिनिन को काफी नियंत्रित रखता है. जिससे किडनी सुरक्षित और हमेशा स्वस्थ रहती है.

अच्छी नींद  

खजूर खाने से शरीर में मेलाटोनिन नाम का हार्मोन रिलीज होता है जो रात में अच्छी नींद के लिए काफी हद तक जिम्मेदार होता है. इसी लिए खजूर खाने से अच्छी नींद आती है.

डायबिटीज

डायबिटीज कंट्रोल करने के लिए बाजार में बहुत सारी दवाईयां मौजूद हैं. खजूर का रोज़ाना सेवन करने से डायबिटीज का खतरा काफी कम हो जाता है क्योंकि इससे शरीर में ज्यादा इंसुलिन बनता है और इससे खून में कम ग्लूकोज मिलता है.

काजू के ये अनेक फायदे देख आप भी रह जाएंगे हैरान

इन्फेक्शन

बदलते मौसम में होने वाली बीमारियों से लड़ने में खजूर काफी मदद करता है और शरीर को एनर्जी भी देता है. खजूर एलर्जी से निपटने में भी मददगार साबित होता है.

मजबूत हड्डियां

खजूर में कैल्शयिम,  सेलेनियम,  मैगनीज और कॉपर की काफी मात्रा होती है. खजूर में मौजूद लवण हड्डियों को मजबूत बनाने का काम करते हैं. इसलिए कुछ लोग रात में सोते समय खजूर खाते हैं.

कैंसर

स्टडी के अनुसार खजूर(Dates) में डी-ग्लूकन अच्छी-खासी मात्रा में होता है जो एंटी-ट्यूमर एक्टीविटी को बढ़ावा देता है. साथ ही इसमें कैंसर होने वाली गतिविधियों को रोकने वाले न्यूट्रीशन भी होते हैं. ऐसे में रोज़ाना खजूर का सेवन करने से कैंसर का खतरा काफी कम हो जाता है.