NCRB Report 2020: बालात्कार के मामलों में राजस्थान अव्वल, हर दिन औसतन 14 से ज्यादा रेप

The Fact India: राजस्थान की महिलाएं बिल्कुल सुरक्षित नहीं हैं. इसकी पुष्टि भी हो चुकी है. राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) 2020 (NCRB Report 2020) की रिपोर्ट के अनुसार राजस्थान में एक साल में 5310 बालात्कार के मामले दर्ज किए गए है. बता दे, प्रदेश में हर दिन औसतन 14 से ज्यादा रेप होते है. जिनमें नाबालिग बच्चियों से लेकर वृद्धा तक शामिल है. बालात्कार के मामलों में राजस्थान नंबर एक पर आया है, वाकई ये बेहद शर्मनाक है, क्यूंकि आज के इस दौर में जहां बेटियां भारत का गर्व से नाम रोशन कर रही है वहां उनकी सुरक्षा की भी गैरंटी नहीं है. यूपी  की बात करें तो यूपी में 2769 रेप के मामले दर्ज किए गए हैं और मध्यप्रदेश में 2339 केस दर्ज किए गए है.

क्राइम के अन्य मामलों में राजस्थान तीसरे नंबर पर

राजस्थान बालात्कार के मामलों में देश में सबसे टॉप (NCRB Report 2020) पर रहा है. वहीं यूपी दूसरे तो मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र तीसरे स्थान पर रहा है. राजस्थान में 2020 में हर रोज 14 से ज्यादा रेप होते हैं. हालांकि यह आंकड़ा 2019 से कम हुआ है. 2019 में राजस्थान में 5997 रेप के मामले दर्ज किए गए थे. 2019 के मुकाबले रेगिस्तानी राज्य में महिलाओं के प्रति अपराध में लगभग 16 प्रतिशत की गिरावट देखी गई है. क्राइम के अन्य मामलों में राजस्थान तीसरे नंबर पर है. पहले नंबर पर उत्तर प्रदेश और दूसरे नंबर पर पश्चिम बंगाल में सबसे ज्यादा अपराधिक मामले दर्ज हुए हैं.

भाजपा MLA ने कहा Mini Pakistan बनते जा रहे ब्रज और मेवात तो डोटासरा-खाचरियावास भड़के

जानकारों के द्वारा किए गए रेप के मामले ज्यादा

राजस्थान में कुल बलात्कार के पीड़ितों में से 1279 की उम्र 18 साल से कम है. वहीं 18 साल से ज्यादा रेप पीड़ितों की उम्र 4031 है. एनसीआरबी रिपोर्ट के अनुसार यह फैक्ट ज्यादा चौकाने वाला है कि 5046 मामलों में से आधे से ज्यादा परिवार, दोस्तों, पड़ोसियों, कर्मचारियों या अन्य पहचान के लोगों द्वारा किए गए. रिपोर्ट के अनुसार 95 प्रतिशत बलात्कार के मामलों में पीड़ित को आरोपी किसी ना किसी रूप में पहले से पहचानते थे.