तृतीय श्रेणी अध्यापकों के तबादलों को लेकर सत्याग्रह शुरू, सरकार पर सौतेला व्यवहार का आरोप

Satyagraha

The Fact India: बहुचर्चित तृतीय श्रेणी अध्यापकों के तबादलों की मांग को लेकर लम्बे समय से आंदोलनरत राजस्थान एकीकृत शिक्षक महासंघ के बैनर तले आज राजधानी जयपुर के शहीद स्मारक पर तृतीय श्रेणी अध्यापकों के तबादलो को लेकर सत्याग्रह (Satyagraha) की शुरुआत की गई है.

महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष हरपाल दादरवाल और महामंत्री जगमोहन मीना ने  बताया कि तृतीय श्रेणी अध्यापक साथियों की सम्पूर्ण प्रदेश से बार बार तबादलो की  उठ रही मांग व तबादलो के लिए आवेदन किये 85000 तृतीय श्रेणी शिक्षक की पीड़ा को ध्यान में रखते हुए प्रदेश के कोने कोने से आये शिक्षक साथियों के साथ सत्याग्रह (Satyagraha) की शुरुआत की है. क्योंकि तबादलो की मांग को लेकर पूर्व में भी महासंघ द्वारा 1 अगस्त को इसी शहीद स्मारक पर महापडाव डाला गया तो उसके बाद तबादलों के लिए आवेदन तो आमंत्रित करवा लिए गए लेकिन अब तक शिक्षा मंत्री द्वारा तबादलो के नाम पर केवल कभी पॉलिसी तो कभी गाइडलाइन के नाम पर आश्वासन पर आश्वासन दिया जा रहा है. जिससे तबादला चाहने वाले शिक्षकों में भारी आक्रोश है क्योंकि जब से सरकार का गठन हुआ है तब से सभी श्रेणी के शिक्षकों का तबादला किया जा रहा है, केवल तृतीय श्रेणी शिक्षकों को छोड़कर जो कि तृतीय श्रेणी शिक्षकों के लिए सरकार का सौतेला व्यवहार दिखाता है.

प्रदेश मीडिया प्रभारी सुनील मेहरा व प्रदेश उपाध्यक्ष अजित चौधरी ने बताया कि जब तब तबादलों को लेकर सरकार की ओर से सकारात्मक शिक्षकों के पक्ष में परिणाम नहीं आता तब तक यह सत्याग्रह जारी रहेगा. सत्याग्रह में धर्मपाल स्वामी, अजय मूंड़, डॉ महेश, शकील सैयद, लालाराम मीणा, कल्याण गुर्जर, महासंघ जालौर जिला अध्यक्ष कुलदीप चोधरी, बाड़मेर से दलपत सहारण, भीलवाड़ा से सोजीराम माली,दौलत जाट, सीकर से कमल बगड़िया, संगीता गंगवाल, अंजू बाला, शशि जाटव, प्रियंका मीना और दयानद डूडी आदि ने सत्याग्रह को सबोधित किया.