ममता के गढ़ में शिवराज बोले- ‘2 मई, दीदी गई, बीजेपी आई’

Shivraj-Singh-Chauhan

The Fact India: पश्चिम बंगाल के सियासी मैदान में शाह के शह और ममता के मात का खेल चुनावी ऐलान के साथ परवान पर चढ़ गया है.  इस बार के चुनाव बंगाल के सियासी इतिहास से बिल्कुल जुदा चुनाव होंगे. यह पहली मर्तबा होगा कि सूबे में भाजपा मजबूती से उतर रही है और सत्ताधारी पार्टी को सीधी टक्कर दे रही है. पार्टी के सीनियर नेता 294 में से 200 सीटें लाने तक का दावा कर रहे हैं. हालांकि यह तो 2 मई को नतीजों के साथ साफ होगा कि बंगाल को नया मुख्यमंत्री मिलेगा या ममता बनर्जी लगातार तीसरी बार सीएम की कुर्सी पर कब्जा जमाएंगी. उससे पहले बीजेपी और टीएमसी में राजनीतिक जंग चरम पर पहुंच गई है और दोनों पार्टियां नए नए जुमलों और नारों से दूसरे पर प्रहार रही है.

 बंगाल में विधान सभा चुनाव का कार्यक्रम घोषित होते ही वहां पर बीजेपी ने अपने तमाम बड़े नेताओं को उतारना शुरू कर दिया है. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज बंगाल में कई रैलियों को संबोधित किया.. बंगाल  के जगतबल्लभपुर इलाके में बीजेपी की पोरिबर्तन यात्रा को संबोधित करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि 2 मई को दीदी जाएंगी, बीजेपी आएगी. चौहान ने कहा कि कोई भी ताकत बीजेपी को सत्ता में आने से नहीं रोक सकती. ममता जी ने कितने पाप किए हैं. अब तो दुर्गा मैया भी उन्हें माफ नहीं करने वाली हैं.

महाराष्ट्र के वन मंत्री ने उद्धव को सौंपा इस्तीफा, युवती की मौत में आया था नाम

खैर यह पहला मौका है जब सूबे के हाई वोल्टेज इलेक्शन से पहले थर्ड फ्रंट अपनी ताकत दिखा रहा है. विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस और लेफ्ट ने रविवार को पश्चिम बंगाल में बड़ी रैली की. इंडियन सेकुलर फ्रंट भी इस गठबंधन का हिस्सा है. रैली के लिए लेफ्ट और कांग्रेस के समर्थक शनिवार रात से ही ट्रेन और बस के जरिए पहुंचना शुरू हो गए. उनके लिए हावड़ा ओर सियालदह में कैंप खोले गए हैं. दोनों इस बार मिलकर चुनाव मैदान में उतरने वाले हैं. कोलकाता के ब्रिगेड परेड ग्राउंड में हो रही इस रैली में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि यह महागठबंधन सेकुलर ताकतों के साथ तृणमूल कांग्रेस और भाजपा को हराएगा.

बहरहाल सवाल यही है कि चुनाव से पहले इस लड़ाई का असल फायदा किसे मिलेगा. क्या बीजेपी की टीएमसी पर भारी पड़ेंगी. क्या बंगाल में तृणमूल का 10 साल का शासन ख़त्म हो जाएगा. इन सभी सवालों के जवाब मतगणना वाले दिन ही मिलेंगे. लिहाजा सबकी निगाहें 2 मई पर टिकी हुई है.

14 Views