भक्तों के लिए बाबा श्याम का खुला दरबार, इन गाइडलाइन की करनी होगी पालना

The Fact India: बाबा श्याम का दरबार (Shyam Darbar) आखिर 117 दिन बाद अपने भक्तों को दर्शन देने के लिए खुल गया है पर अगर कोरोना गाइडलाइन की पालना नहीं की तो बाबा के दर्शन नसीब नहीं हो पाएंगें. फिलहाल नियम थोड़े सख्त ही है. दर्शन के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. रोजाना 12 हजार श्रद्धालुओं के दर्शन की व्यवस्था की जाएगी. 22 जुलाई यानि कल से आप दर्शन की लाइन में लग सकते है. SDM अशोक कुमार रणवां और श्रीश्याम मंदिर कमेटी के पदाधिकारियों ने बताया कि 22 जुलाई से मंदिर खोला जाएगा. मंदिर खुलते ही श्रद्धालुओं की ज्यादा भीड़ ना हो इसलिए कमेटी की ओर से ऑनलाइन बुकिंग दर्शन सिस्टम शुरु किया गया है.

सुबह 8 बजे से होंगे रजिस्ट्रेशन होंगे शुरु

 बाबा (Shyam Darbar) के दर्शनों के लिए श्रद्धालु घर बैठे ही ऑनलाइन बुकिंग कर पाएंगे. 8 बजे से रजिस्ट्रेशन शुरू कर दिए गए है. रजिस्ट्रेशन के बाद ही बाबा श्याम के दर्शन कर सकेंगे. खास बात है कि रविवार, एकादशी, द्वादशी को भीड़ की संभावना देखते हुए मंदिर को बंद रखा जाएगा. इस बार भक्तों को गर्भगृह तक नहीं जा पाएंगे. रोजाना मंदिर में दर्शनों के बाद मंदिर परिसर, मेला ग्राउंड आदि को सैनिटाइज कराया जाएगा. इसके अलावा कोविड के नियमों की पूरी तरह से पालना करनी होगी. श्रद्धालुओं की भीड़ न हो, मंदिर में सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन रहे, इसके लिए 2 गज की दूरी पर सर्किल बनवाया जा रहा है.

पिटबुल ने काटा, करवानी पड़ रही है मासूम के चेहरे की प्लास्टिक सर्जरी

ऐसे होंगे दर्शन

मंदिर में दर्शन की व्यवस्था तीन चरणों में होंगी. सबसे पहले ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. वैक्सीन की पहली डोज का प्रमाणपत्र या RT-PCR की 72 घंटे अवधि की नेगेटिव रिपोर्ट प्रवेश द्वार पर बने निरीक्षण केंद्र पर दिखानी होगी. दर्शन के लिए तीन समय तय किए गए है.  मंदिर में बाबा के सुबह 7 से दोपहर 12 बजे, दोपहर 2 से शाम 5 और 5 से रात 8 बजे तक ही तीन चरणों में दर्शन कराए जाएगें. रोजाना दोपहर 12 से 2 बजे तक मंदिर बंद रहेगा. हर श्रद्धालु को दर्शन के लिए 20 सेकंड दिए जाएंगे. मंदिर में बिना मास्क प्रवेश नहीं मिलेगा, माला प्रसाद पर रोक रहेगी, दंडवत नहीं कर पाएंगे, सभा मंडल से ही दर्शन कर पाएंगे.