मोदी के मुख्य आर्थिक सलाहकार रहे सुब्रमण्यम का दावा, देश में कोरोना से हुई 50 लाख से ज्यादा मौतें

The Fact India: देश में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान कई भयावह तस्वीरें सामने आई थी. फिर चाहे वो तस्वीरें ऑक्सीजन को लेकर हो, अस्पताल की हो, या फिर शमशान घाटों की. अब एक चौकाने वाला दावा सामने आया है. इस दावे के मुताबिक कोरोना काल में हुई मौतें (Corona-Death) देश के बंटवारे के बाद सबसे बड़ी मानवीय त्रासदी है. अमेरिकी संस्था की स्टडी में दावा किया गया है कि देश में कोरोना से 30 लाख से 49 लाख मौतें हुई हैं.

जंतर-मंतर पर चलेगी किसान संसद, शर्तों के साथ प्रदर्शन की मिली इजाजत

वॉशिंगटन के सेंटर फॉर ग्लोबल डेवलपमेंट ने इस स्टडी के लिए सीरोलॉजिकल स्टडी, हाउस होल्ड सर्वे, स्टेट लेवल पर सिविक बॉडीज से मिले ऑफिशियल डेटा और अंतरराष्ट्रीय आकलन को आधार बनाया है. मंगलवार को जारी इस रिपोर्ट में भारत में मौतों (Corona-Death) के तीन अनुमान बताए गए हैं. सभी में मौतों की संख्या सरकारी डेटा (4.18 लाख) के मुकाबले कई गुना ज्यादा बताई गई है.

आयकर विभाग ने मारे मीडिया हाउस पर छापे, CM गहलोत ने कहा ये

वहीं केंद्र सरकार ने कहा है कि ऐसा संभव नहीं है. सरकार की ओर से उन मीडिया रिपोर्टों का खंडन किया गया जिसमें कथित तौर पर कोरोना से होने वाली मौतों को कम बताने की बात कही गई थी. सरकार ने गुरुवार को कहा कि ऐसी मीडिया रिपोर्ट मानती है कि सभी मृत्यु दर के आंकड़े कोविड की मौतें हैं जो तथ्यों पर आधारित नहीं है और पूरी तरह से गलत हैं.