उदयपुर टेरर कीलिंग, जयराम-आचार्य प्रमोद के बीच छिड़ी ट्विटर वॉर

The Fact India: उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल के साथ हुई टेरर किलिंग मामले में एक के बाद एक कई बड़े खुलासे हो रहे हैं. पायलट समर्थक माने जाने वाले कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद और कांग्रेस के मीडिया प्रभारी जयराम रमेश के बीच सोशल मीडिया पर एक बार फिर सियासी तलवारें खींच गई. दोनों नेताओं ने एक दूसरे के ट्वीट को रीट्वीट कर जमकर एक दूसरे पर सियासी बाण चलाए. दरअसल उदयपुर में हुई घटना को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के एक ट्वीट पर आचार्य प्रमोद ने सवाल खड़े कर दिए थे.

प्रमोद प्रिश्नम ने कहा था कि – ‘धमकी मिलने के बावजूद भी कन्हैया को सुरक्षा उपलब्ध क्यूं नहीं करायी? हत्यारों के साथ-साथ पुलिस प्रशासन भी बराबर का दोषी है, SSP DIG के ख़िलाफ़ अभी तक कार्रवाई क्यूं नहीं की गयी ?’, इस पर कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने आचार्य प्रमोद को नसीहत दी. कहा- ‘दूसरी बार लक्ष्मण रेखा पार करने से पहले एक बार तो सोचना चाहिए था, जो आपने लिखा है वो वैसे भी तथ्यों से बहुत परे है. इसके बाद जयराम रमेश को फिर जवाब दिया आचार्य प्रमोद ने, बोले- ‘कन्हैया के लिये आवाज़ उठाना राष्ट्र धर्म है प्रभु, राष्ट्र धर्म का निर्वहन करने से किसी को रोकने की चेष्टा “राष्ट्र द्रोह” कहलाता है.

जयराम रमेश ने दूसरी बार लक्षम रेखा लांघने का इसलिए जिक्र किया क्योंकि पिछले दिनों  महाराष्ट्र प्रकरण को लेकर आचार्य प्रमोद ने एक ट्वीट किया था, जिस पर जयराम रमेश ने उनके कांग्रेस से ताल्लुक न होने की बात कही थी और उनके विचारों से राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के विचार अलग बताए थे.जयराम रमेश ने कहा था कि आचार्य प्रमोद के विचार पार्टी के नहीं है.

गौरतलब है कि आचार्य प्रमोद को प्रियंका गांधी का करीबी माना जाता है और राजस्थान की कांग्रेस नेता सचिन पायलट के कट्टर समर्थकों में वे शुमार होते हैं. ऐसे में राजस्थान सरकार और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को लेकर वक्त वक्त पर भी अपने टि्वटर पोस्ट के जरिए सवाल खड़े करते रहे हैं. अब एक बार फिर उदयपुर टेरर किलिंग को लेकर सवाल खड़े करने पर सियासी रार खिंच गई.

226 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *