जरूरत पड़ी तो कांग्रेस देगी TMC को समर्थन? अधीर रंजन ने दिया ये जवाब

Congress support TMC

The Fact India: पश्चिम बंगाल में तीन चरण के चुनाव हो चुके हैं और शेष चरणों के लिए राजनीतिक दल जोर आजमाइश में जुटे हुए हैं. बंगाल में ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी और भाजपा के बीच सीधी टक्कर है. हालांकि कांग्रेस-वाम गठबंधन (Congress support TMC) को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. ऐसे में सवाल उठता है कि नतीजों के बाद अगर टीएमसी को जरूरत होगी तो क्या कांग्रेस समर्थन देगी? इस सवाल पर पश्चिम बंगाल कांग्रेस के प्रमुख अधीर रंजन चौधरी की भी प्रतिक्रिया आई है.

अधीर रंजन ने दिया ये जवाब

जब कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी से पूछा गया कि क्या जरूरत पड़ने पर टीएमसी को कांग्रेस समर्थन (Congress support TMC) देगी, तो उन्होंने कहा कि अभी काल्पनिक सवाल का कोई समय नहीं है क्योंकि हम नबना (मुख्यमंत्री कार्यालय) पर कब्जा करने के लिए आगे बढ़ रहे हैं. हम नहीं जानते कि ममता बनर्जी कहां जाएंगी, अगर वह हार जाती हैं. क्योंकि राजनीति संभावनाओं की कला है.

दो मई को आएंगे परिणाम

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में तीसरे चरण में छह अप्रैल को 31 विधानसभा सीटों पर 84.61 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया. राज्य में पहले और दूसरे चरण में क्रमश: 84.13 और 86.11 फीसदी मतदान हुआ था. राज्य में विधानसभा की 294 सीटों में से 91 पर चुनाव संपन्न हो गया है और पांच और चरण शेष हैं. चुनाव आयोग के कार्यक्रम के मुताबिक परिणाम दो मई को घोषित होंगे.

हिंसा के लिए BJP- TMC को ठहराया जिम्मेदार

इससे पहले बुधवार को वरिष्ठ कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि जिन चार राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव हुए हैं उनमें से हिंसा की घटनाएं केवल पश्चिम बंगाल में हुई और इसके लिए भाजपा तथा तृणमूल कांग्रेस जिम्मेदार है.  कांग्रेस की पश्चिम बंगाल ईकाई के अध्यक्ष चौधरी ने बुधवार को पत्रकारों से कहा कि हालांकि इस बार अब तक हुए तीन चरणों के चुनाव में पश्चिम बंगाल में हिंसा की ऐसी घटनाएं कम रहीं और इसका श्रेय निर्वाचन आयोग (ईसी) को जाता है.