परीक्षा शुल्क के नाम पर जमकर मच रही लूट, अभ्यर्थियों से 5-5 हजार की वसूली…

The Fact India : राजस्थान स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय (मेडिकल यूनिवर्सिटी) (RUHS) में परीक्षा शुल्क वसूली के नाम पर जमकर चांदी कूटी जा रही है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की विभिन्न भर्तियों के नाम पर यह विवि सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों से 5-5 हजार रुपए तक शुल्क वसूल रहा है। राज्य स्तर पर अधिकांश भर्तियां राजस्थान लोक सेवा आयोग और राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड के जरिये होती है। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की तरह विभागीय स्तर पर भी अन्य विभाग भर्तियां करवाते हैं, लेकिन इनका शुल्क 300 से 1200 रुपए तक ही है।

अखिल भारतीय स्तर पर उच्च स्तरीय परीक्षाएं आयोजित करने वाली शीर्ष
भर्ती ऐजेंसी संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) का शुल्क भी 100 रुपए निर्धारित है।
तीन भर्तियों में ही वसूले 5 करोड़ रुपए
मेडिकल यूनिवर्सिटी चार साल के दौरान चिकित्सा अधिकारी पद के लिए तीन परीक्षाएं आयोजित कर चुका है। जिनमें करीब 3700 डॉक्टरों की भर्तियां हुई। इन परीक्षाओं में करीब 15 हजार डॉक्टरों ने आवेदन किया और उनसे शुल्क के तौर पर करीब 5 करोड़ रुपए की शुल्क वसूली की गई है।
विवि की अधिक वसूली के कारण आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को भी भारी शुल्क चुकाना पड़ रहा है। चिकित्सा अधिकारी के पद के लिए इस वर्ग के अभ्यर्थियों ने 2500 रुपए शुल्क चुकाया है।

तीन तलाक के मामले में जयपुर की अदालत ने दिया बड़ा फैसला

वसूली में अव्वल, व्यवस्थाओं पर बार-बार सवाल

मेडिकल यूनिवर्सिटी (RUHS) परीक्षा शुल्क वसूली में भले ही अव्वल हो, लेकिन इस विवि की ओर से आयोजित परीक्षाओं की व्यवस्थाओं पर कई बार सवाल खड़े हो चुके हैं। कोविड काल के दौरान प्रदेश भर में चिकित्सा सेवाओं को मजबूत करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने 2 हजार डॉक्टरों की भर्ती प्रक्रिया शुरू की, लेकिन व्यवस्थाओं में खामियां ऐसी रही कि यह परीक्षा और परिणाम तीन बार निरस्त करने पड़े। इससे पहले भी कई अन्य परीक्षाओं के आयोजन में विवि पर कई बार सवाल खड़े हुए।

218 Views

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *